Chyawanprash / च्यवनप्राश के फायदे, उपयोग और 04 सबसे अच्छा ब्रांड!

88 / 100 SEO Score

Chyawanprash immunity booster Hindi

Chyawanprash -च्यवनप्राश जड़ी-बूटियों का उपयोग करके बनाया गया एक आयुर्वेदिक उत्पाद है। दादी और नानी को जुकाम से बचने और प्रतिरक्षा प्रणाली में सुधार करने के लिए अक्सर च्यवनप्राश खाने की सलाह दी जाती है। क्यों नहीं देते! इसमें मौजूद आयुर्वेदिक तत्व सर्दी को रोकने के साथ ही खांसी और जुकाम को रोकने में मदद करते हैं। च्यवनप्राश खाने के फायदे सर्दियों में अधिक होते हैं क्योंकि उस समय सर्दी-जुकाम को पकड़ने की अधिक संभावना होती है, लेकिन यह बिल्कुल भी संभावना नहीं है कि च्यवनप्राश का अन्य मौसमों में लाभ नहीं है। इस कारण से, हम यहां च्यवनप्राश के फायदे और च्यवनप्राश बनाने की विधि के बारे में विस्तार से बता रहे हैं। यहां दी गई सभी जानकारी शोध पर आधारित होगी। औषधीय च्यवनप्राश के बारे में जानने के लिए यह लेख पढ़ें जो बच्चों से लेकर बूढ़े तक को फायदा पहुंचाता है।

सबसे पहले, हम च्यवनप्राश में मौजूद औषधीय पदार्थों के बारे में बताएंगे। इसके बाद, हम च्यवनप्राश के लाभों पर भी चर्चा करेंगे।

विषय – सूची

  • च्यवनप्राश में सामग्री
  • च्यवनप्राश के फायदे
  • च्यवनप्राश का सेवन कैसे करें?
  • च्यवनप्राश की खुराक
  • सबसे अच्छा च्यवनप्राश ब्रांड क्या है?

वैसे, च्यवनप्राश में लगभग 50 प्रकार की सामग्रियों का उपयोग किया जाता है। बाजार में च्यवनप्राश बनाने वाली कई कंपनियां भी च्यवनप्राश बनाने के लिए विभिन्न प्रकार की सामग्रियों का उपयोग करती हैं। प्रत्येक कंपनी अपने अनुसार च्यवनप्राश के लिए सामग्री चुनती है, जिनमें से कुछ नीचे चर्चा की गई हैं। दादी और नानी नीचे दी गई सामग्री का उपयोग करके च्यवनप्राश भी बनाती हैं।

  • करौंदा
  • Vasaka
  • अश्वगंधा
  • तुलसी
  • नीम
  • केसर
  • Pippali
  • ब्राह्मी
  • घी
  • शहद
  • लौंग
  • इलायची
  • दालचीनी
  • घंटी
  • Aguru
  • तेज पत्ता
  • पुनर्जन्म
  • हल्दी
  • साँप भगवा
  • एस्परैगस
  • तिल का तेल

आगे और भी जानकारी है।

च्यवनप्राश बनाने की सामग्री के बाद, हम आगे च्यवनप्राश के लाभों के बारे में बताएंगे। उन्हें नीचे विस्तार से पढ़ें।

च्यवनप्राश के फायदे/ Benefits of Chyawanprash

  • एटी-इंफ्लेमेटरी/ Anty-Inflammatory
    च्यवनप्राश को सूजन-रोधी माना जाता है। यह सूजन को दूर करने में मदद कर सकता है। च्यवनप्राश में कई ऐसे तत्व होते हैं, जो सूजन को कम करने का काम कर सकते हैं। NCBI (नेशनल सेंटर फॉर बायोटेक्नोलॉजी इन्फॉर्मेशन) की वेबसाइट पर प्रकाशित शोध में भी इसका उल्लेख किया गया है। शोध में स्पष्ट रूप से कहा गया है कि च्यवनप्राश बनाने के लिए इस्तेमाल किए जाने वाले तिल के तेल, लौंग और गुरु में भड़काऊ गुण होते हैं।

यह च्यवनप्राश में मौजूद फ्लेवोनोइड्स के कारण विरोधी भड़काऊ गुणों को भी प्रदर्शित करता है। इनके अलावा, अश्वगंधा, नागकेसर, और आंवला जैसे च्यवनप्राश सामग्री में भी विरोधी भड़काऊ गुण पाए जाते हैं। इस कारण से च्यवनप्राश केंद्रीय तंत्रिका तंत्र के कार्य को बेहतर बनाने में भी मदद कर सकता है।

  • हृदय स्वास्थ्य/ cardiovascular health
    च्यवनप्राश खाने के लाभों में हृदय स्वास्थ्य शामिल है। इसे कार्डियोटोनिक माना जाता है। NCBI वेबसाइट पर प्रकाशित शोध में भी इसका उल्लेख किया गया है। शोध कहता है कि च्यवनप्राश दिल को मजबूत रखने का काम कर सकता है। च्यवनप्राश मांसपेशियों को स्वस्थ रक्त प्रवाह सुनिश्चित करके दिल की धड़कन को सही भी रख सकता है। आंवला, बाला च्यवनप्राश बनाने के लिए इस्तेमाल की जाने वाली सभी सामग्रियों को हृदय को स्वस्थ रखने और इसके बेहतर कामकाज को सुनिश्चित करने के लिए भी जाना जाता है। इस कारण से, च्यवनप्राश हृदय रोग को रोकने में फायदेमंद माना जाता है।
  • पाचन और चयापचय में सुधार करता है

नियमित च्यवनप्राश के फायदों में पाचन शक्ति में सुधार करना शामिल है। इसे लेने से भोजन ठीक से पचता है और मल त्याग भी बेहतर तरीके से होता है। च्यवनप्राश नागकेसर, तेजपत्ता, दालचीनी जैसी जड़ी-बूटियों के कारण पाचन और चयापचय में सुधार करने में मदद कर सकता है। पाचन तंत्र के साथ च्यवनप्राश पेट की समस्या गैस्ट्रिटिस (पेट की परत में सूजन और जलन), पेट में ऐंठन और दर्द के साथ-साथ गैस्ट्रोइंटेस्टाइनल फ़ंक्शन के लिए बेहतर है।

स्क्रॉल पढ़ें

  • खांसी और जुकाम /Cough and cold
    बदलते मौसम और कई अन्य कारणों के कारण लोगों को सर्दी और खांसी जैसी समस्या हो जाती है। इस समस्या से बचने के लिए च्यवनप्राश को भी फायदेमंद माना जाता है। इसमें मौजूद शहद सर्दी और खांसी को ठीक करने के लिए जाना जाता है। इसके अलावा यह इम्युनिटी बढ़ाने में भी मदद करता है, जिसकी वजह से शरीर खांसी और सर्दी से लड़ने का काम करता है। साथ ही, च्यवनप्राश में मौजूद आंवला और अन्य जड़ी-बूटियां विटामिन-सी से भरपूर होती हैं, जो शरीर को किसी भी तरह के संक्रमण और वायरस और बैक्टीरिया से बचाने में मदद कर सकती हैं। इस कारण से, यह माना जाता है कि च्यवनप्राश का उपयोग सर्दी और खांसी को रोकने के लिए किया जाना चाहिए।

Must Read- Why Is Everyone Talking About Chest Exercise At Home?

  • खून साफ ​​करें/ Clear the blood
    च्यवनप्राश खाने के लाभों में रक्त को साफ करना भी शामिल है। च्यवनप्राश का उपयोग केवल रक्त को साफ करने के लिए किया जा सकता है, जिसमें डेटा सामग्री के रूप में उपयोग किया जाता है। पटला रक्त में मौजूद विषाक्त पदार्थों को हटाकर इसे साफ करने का कार्य कर सकता है। च्यवनप्राश में मौजूद तुलसी और हल्दी रक्त शोधक (4) के रूप में भी काम करती है। ऐसी स्थिति में, अगर कोई खून साफ ​​करने के लिए च्यवनप्राश का सेवन करना चाहता है, तो ध्यान दें कि क्या इसकी सामग्री में तुलसी, हल्दी और डेटा शामिल हैं।
  • प्रतिरक्षा को बढ़ावा देना/ Boost immunity
    इम्यूनिटी शरीर के लिए मजबूत होती है। यह प्रतिरक्षा है, जो शरीर को जल्दी बीमार होने से बचाता है और संक्रमण और बैक्टीरिया से लड़ने में मदद करता है। ऐसा माना जाता है कि प्राचीन काल से, लोग प्रतिरक्षा बढ़ाने के लिए च्यवनप्राश का उपयोग एक घरेलू उपचार के रूप में करते रहे हैं। यह उल्लेख वैज्ञानिक शोध में भी पाया जाता है।

आंवला, जो च्यवनप्राश की सामग्री में शामिल है, शरीर में इम्यूनोमॉड्यूलेटरी प्रभाव दिखाता है। यह प्रभाव शरीर की आवश्यकता के अनुसार प्रतिरक्षा को बढ़ाने का काम करता है। च्यवनप्राश बनाने में इस्तेमाल होने वाली गाय के घी और शहद में भी इम्यून को मजबूत करने वाले प्रभाव पाए गए हैं। इस कारण से, यह माना जाता है कि च्यवनप्राश खाने के लाभों में प्रतिरक्षा प्रणाली को मजबूत करना शामिल है।

अग्रिम जानकारी

  • सांस की समस्याओं में च्यवनप्राश खाने के फायदे
    सांस की समस्याओं से निपटने के लिए, बुजुर्ग और बुजुर्ग अक्सर च्यवनप्राश लेने की सलाह देते हैं। जब वैज्ञानिकों ने इस विषय पर शोध किया, तो पाया गया कि इसमें मौजूद पिप्पली जड़ी बूटी श्वसन संक्रमण से बचाने का काम करती है। श्वसन समस्याओं वाले लोगों को च्यवनप्राश को गुनगुने पानी के साथ लेने की सलाह दी जाती है। इसके अलावा दूध और दही से बचने के लिए भी कहा जाता है। तभी च्यवनप्राश खाने के कुछ लाभ सांस की समस्याओं में हो सकते हैं।
  • हड्डियों को मजबूत बनाना/ Strengthen bones
    च्यवनप्राश के लाभों में हड्डी को मजबूत करना भी शामिल है। माना जाता है कि च्यवनप्राश का सेवन कैल्शियम के बेहतर अवशोषण और प्रोटीन के संश्लेषण में मदद करता है, जिससे हड्डियों और दांतों को मजबूती मिलती है। इसी कारण से, च्यवनप्राश का सेवन करने के साथ-साथ अन्य कैल्शियम युक्त पदार्थों का सेवन करके हड्डी को स्वस्थ रखा जाता है। च्यवनप्राश खाने की विधि हड्डी को मजबूत करने के लिए इसे दूध के साथ मिलाकर खाना है। च्यवनप्राश शरीर में दूध में मौजूद कैल्शियम को अवशोषित करने में मदद करेगा।
  • कोलेस्ट्रॉल / Cholesterol Control
    च्यवनप्राश लेने से कोलेस्ट्रॉल को भी नियंत्रण में रखा जा सकता है। यह शरीर में हाइपोलिपिडेमिक की तरह काम करता है, जो कोलेस्ट्रॉल और ट्राइग्लिसराइड्स (रक्त में मौजूद वसा का एक प्रकार) के स्तर को कम कर सकता है। NCBI वेबसाइट पर प्रकाशित एक शोध में कोलेस्ट्रॉल, ट्राइग्लिसराइड्स, एलडीएल (कम घनत्व वाले लिपोप्रोटीन) में कमी, और च्यवनप्राश का सेवन करने वाले बुजुर्ग लोगों में अच्छे कोलेस्ट्रॉल (एचडीएल) में वृद्धि देखी गई है। इस कारण से, यह माना जाता है कि च्यवनप्राश खाने के लाभों में कोलेस्ट्रॉल नियंत्रण शामिल है।
  • त्वचा का स्वास्थ्य / Skin health
    च्यवनप्राश खाने के लाभों में त्वचा स्वास्थ्य भी शामिल है। बदलते मौसम, धूल, मिट्टी, प्रदूषण और कई अन्य कारणों से त्वचा शुष्क और बेजान हो जाती है। ऐसी स्थिति में त्वचा को स्वस्थ रखने के लिए च्यवनप्राश का सेवन भी किया जा सकता है। इसका विवरण भी शोध में दिया गया है। शोध के अनुसार, च्यवनप्राश का सेवन करने से चेहरे की रंगत में सुधार हो सकता है और यह चेहरे को चमक बनाए रखने में मदद कर सकता है। यह भी उल्लेख किया गया है कि च्यवनप्राश की मदद से, चेहरे पर समय से पहले बुढ़ापा के प्रभाव को फोटो-एडिंग यानी सूर्य के कारण भी हटाया जा सकता है। त्वचा को जवान रखने के साथ-साथ च्यवनप्राश इसे संक्रमण से बचाने के लिए भी काम कर सकता है।

लेख पढ़ना जारी रखें

आइए आगे जानते हैं कि च्यवनप्राश कब खाना चाहिए और इसे खाने का तरीका क्या है।

च्यवनप्राश का सेवन कैसे करें? How to consume Chyawanprash?


च्यवनप्राश के फायदे हम पहले ही बता चुके हैं, अब च्यवनप्राश खाने की विधि को जानना आवश्यक है। नीचे हम आपको बता रहे हैं कि च्यवनप्राश खाने का तरीका क्या है और च्यवनप्राश कब खाएं।

  • च्यवनप्राश सुबह खाली पेट खाया जा सकता है।
  • च्यवनप्राश का सेवन दूध के साथ भी किया जा सकता है। हालाँकि, ध्यान रखें कि आप मसालेदार चीज खाने के तुरंत बाद न खाएं।
  • इसे गुनगुने पानी के साथ भी लिया जा सकता है।
  • च्यवनप्राश को ब्रेड में लगाकर भी खाया जा सकता है।
  • च्यवनप्राश खाने का तरीका जानने के बाद, लेख में आगे पढ़ें कि च्यवनप्राश कितना खाया जाना चाहिए।

च्यवनप्राश की खुराक/ Chyawanprash supplements


च्यवनप्राश शरीर को तभी फायदा पहुंचाता है जब उसकी खुराक नियंत्रित हो। अगर इसका अधिक सेवन किया जाए तो च्यवनप्राश खाने के फायदे की बजाय नुकसान हो सकता है। इस कारण से, हमेशा ध्यान रखें कि च्यवनप्राश का केवल एक या दो चम्मच हर दिन सेवन किया जाना चाहिए। वैसे, अगर आप गांव में बात करते हैं, तो एनसीबीआई की वेबसाइट पर, च्यवनप्राश से संबंधित शोध में लिखा गया है कि केवल 12 से 28 ग्राम च्यवनप्राश का सेवन किया जाना चाहिए।

सबसे अच्छा च्यवनप्राश ब्रांड क्या है? What is the best Chyawanprash brand?


बाजार में कई प्रकार के च्यवनप्राश हैं, जिनमें से कुछ काफी प्रसिद्ध हैं। हालाँकि, हम यह नहीं कह सकते हैं कि उनमें से कौन सबसे अच्छा च्यवनप्राश है। नीचे उन ब्रांडों के नाम हैं जिनकी बिक्री अधिक है और जो अन्य च्यवनप्राश की तुलना में प्रसिद्ध हैं।

1) रजवाड़ी च्यवनप्राश / Rajwadi Chyawanprash

Rajwadi Chyawanprash
राजवाड़ी च्यवनप्राश के लाभ अन्य च्यवनप्राश के समान हैं। इस कंपनी का यह भी दावा है कि यह एक शाकाहारी पदार्थ है। राजवाड़ी च्यवनप्राश कंपनी के अनुसार, यह प्रतिरक्षा को बढ़ाता है और शारीरिक क्षमता को बढ़ाता है। कंपनी का कहना है कि इसे किसी भी मौसम में खाया जा सकता है। यह भी दावा किया गया है कि राजवाड़ी च्यवनप्राश के लाभों में तनाव को नियंत्रित करना शामिल है।

2) डाबर च्यवनप्राश / Dabur Chyawanprash

Dabur Chyawanprash
बाजार में बिकने वाले च्यवनप्राश के बीच डाबर च्यवनप्राश काफी लोकप्रिय है। कंपनी का दावा है कि डाबर च्यवनप्राश के लाभ शरीर के लिए कई हैं। कंपनी के अनुसार बच्चों से लेकर बूढ़ों तक की प्रतिरोधक क्षमता को बढ़ाकर उन्हें स्वस्थ रखने में मदद मिल सकती है। इस ब्रांड के अनुसार, डाबर च्यवनप्राश का लाभ केवल दैनिक उपयोग पर उपलब्ध होगा

3) बैद्यनाथ च्यवनप्राश / Baidyanath Chyawanprash

Baidyanath Chyawanprash
बैद्यनाथ च्यवनप्राश भी प्रसिद्ध च्यवनप्राश में से एक है। इसकी कीमत भी अन्य च्यवनप्राश से कम है। कंपनी के अनुसार, इसका ब्रांड च्यवनप्राश शरीर में ऊर्जा बनाए रखने में मदद करता है।

4) झंडू च्यवनप्राश / Zandu Chyawanprash

Zandu Chyawanprash
झंडू च्यवनप्राश सस्ता होने के साथ-साथ शुगर-फ्री भी है। कंपनी का दावा है कि इसे बनाते समय चीनी का इस्तेमाल बिल्कुल भी नहीं किया गया है। साथ ही इसे पूरी तरह से शाकाहारी च्यवनप्राश कंपनी भी कहा जाता है। कंपनी का कहना है कि झंडू च्यवनप्राश के लाभों में बढ़ती प्रतिरक्षा और आंतरिक बल शामिल हैं।

5) Patanjali Chyawanprash

  • Leave a Comment